Thursday, April 18, 2024
Google search engine
Home Blog Page 3

भारत ने एशिया कप 2023 क्रिकेट टीम का किया ऐलान तिलक वर्मा का सिलेक्शन केएल राहुल और श्रेयस अय्यर की टीम में वापसी हुई

पहली बार, कप्तान रोहित शर्मा ने हाल ही में नियुक्त चयन समिति के अध्यक्ष अजित आगरकर के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया, जिसका आयोजन नई दिल्ली में हुआ, जहाँ भारत की 17 सदस्यीय टीम का एशिया कप 2023 के लिए ऐलान किया गया।
भारत की एशिया कप 2023 की टीम इस प्रकार है।
रोहित शर्मा (कप्तान), शुभमन गिल, विराट कोहली, श्रेयस अय्यर, सूर्यकुमार यादव, तिलक वर्मा, केएल राहुल, ईशान किशन, हार्दिक पांड्या (उप-कप्तान), रवींद्र जडेजा, शार्दूल ठाकुर, अक्सर पटेल, कुलदीप यादव, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, मोहम्मद सिराज, प्रसिद्ध कृष्णा। स्टैंड-बाय खिलाड़ी के रूप में संजू सैमसन को रखा गया है
2023 एशिया कप, एशिया कप का 16वां संस्करण होगा, जिसमें मैच एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय के रूप में खेले जाएंगे, और इसकी मेजबानी पाकिस्तान और श्रीलंका संयुक्त रूप से करेंगे। टूर्नामेंट में 6 टीमों हिस्सा लेगी। जिसमें पाकिस्तान, भारत, श्रीलंका, बांग्लादेश, अफ़गानिस्तान और नेपाल शामिल है. श्रीलंका एशिया कप का डिफेंडिंग चैंपियन हैं 30 अगस्त को टूर्नामेंट की शुरुआत होगी। फाइनल मुकाबला 17 सितंबर को खेला जाएगा। भारतीय टीम 2 सितंबर को पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला मैच खेलेगी।
एशिया कप में भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप में रखा गया है। ग्रुप ए में भारत और पाकिस्तान के अलावा नेपाल की टीम है। ग्रुप बी में श्रीलंका, अफगानिस्तान और अफगानिस्तान हैं। सभी टीमें अपने ग्रुप की टीमों से एक-एक मुकाबला खेलेंगी। इसके बाद ग्रुप में टॉप-2 पर रहने वाले टीमें सुपर-4 में पहुंचेंगी। यहां सभी टीमें दूसरे के खिलाफ एक-एक मैच खेलेंगी। सुपर-4 में टॉप पर रहने वाली दो टीमों के बीच खिताबी मुकाबला होगा। ऐसे में भारत और पाकिस्तान के बीच कुल 3 मैच हो सकते हैं।
एशिया कप 2023 का शेड्यूल
30 अगस्त: पाकिस्तान Vs नेपाल, मुल्तान
31 अगस्त: बांग्लादेश Vs श्रीलंका, कैंडी
2 सितंबर: पाकिस्तान Vs भारत, कैंडी
4 सितंबर: भारत Vs नेपाल, कैंडी
5 सितंबर: अफगानिस्तान Vs श्रीलंका, लाहौर

बिग बॉस OTT 2 की जिया शंकर ने उन ट्रोलर्स को मुंह तोड़ जवाब दिया है जिन्होंने उन्हें ‘Sympathy Seeker’ कहा

जिया ने कहा ‘मेरे प्रिय फैंस और समर्थकों, आपका प्यार और समर्थन मेरे लिए महत्वपूर्ण है और मैं आपकी आभारी हूँ। लेकिन कुछ लोगो ने हमें विचारशीलता और खुद पर ध्यान देने के आरोप में लगाए हैं। मुझे अच्छे से पता है कि मैं क्या हूँ और मैं अपने काम को कितने अच्छे से कर पा रही हूँ। आगे जिया शंकर ने अपने ट्रोलर्स को जवाब देते हुए ये भी कहा मैंने हर किसी को नफरत बंद करने के लिए बार-बार कहा है, लेकिन शायद कुछ लोगों को दबदबा बनाने के लिए पर्सनल अटेंशन की जरूरत थी। अब अगर मैं देखती हूं कि कुछ ऐसी बात हो रही है जो सीमा को पार करती है, तो मैं उसके खिलाफ बातें करूंगी, हां, मैं काफी फ्री हूं, मेरे पास आप जैसे लोगों की तरह काम-धंधा नहीं है। किसी को खुद की पहचान को छुपाकर किसी पर नफरत डालना बहुत आसान है। अपने असली नाम और तस्वीर के साथ पूरी दुनिया के सामने आओ, फिर हम बात करेंगे। अब भी मैं बहुत शांति पूर्ण रूप से जवाब दे रही हूं, और यकीन करो, मैं सहानुभूति हासिल करने की कोशिश कर रही हूं। (हां, मैं काफी फ्री हूं)। मेरे पास आप जैसे सब लोगों की तरह काम नहीं है। अपने असली नाम और तस्वीर के साथ पूरी दुनिया के सामने आओ, फिर हम बात करेंगे। अब भी, मैं शांतिपूर्ण रूप से जवाब दे रही हूं।

जिया ने आगे यह भी बताया की किस तरह मेरी मां को बहुत सारी बुराइयों का सामना करना पड़ रहा है, मनीषा के प्रशंसकों से, अभिषेक मल्हान के प्रशंसकों से, मुझे लगता है कि यह सही नहीं है, मुझे लगता है कि मनीषा भी इसे पसंद नहीं करेंगी हाल ही में ETimes के साथ एक इंटरव्यू में, जिया शंकर ने अपनी चिंता व्यक्त की और सभी से नकारात्मकता को खत्म करने की अपील की।

भारत के लिए ऐतिहासिक पल चंद्रयान-3 चन्द्रमा के दक्षिण ध्रुव पर उतरने वाला पहला और एकमात्र देश बना भारत

0

भारत ने फिर से एक ऐतिहासिक पल बनाया है, चंद्रयान-3 की चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर सफलतापूर्वक लैंडिंग करने के बाद। अमेरिका, रूस, और चीन के बाद। भारत वो चौथा देश बन गया है, जो चन्द्रमा पर लैंडिंग करने में महारथ हासिल की है चंद्रयान-3 मिशन को अनूठा बनाने वाली बात यह है कि इसके रोवर का लैंडिंग क्षेत्र चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर है, और चन्द्रमा पर अभी तक कोई और देश यहाँ तक नहीं पहुँच पाया है।

चंद्रयान-3 को चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर लैंड कराने के लिए 40 दिनों का मिशन था। भारत का चन्द्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराने का दूसरा प्रयास है। चंद्र मिशन 14 जुलाई को दोपहर 2.35 बजे श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपित किया गया था। भारतीय समयानुसार 23 अगस्त को शाम 06.04 बजे इसरो चंद्रयान-3 के लैंडर मॉड्यूल को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की सतह पर सफलतापूर्वक लैंड करने में सफल रहा।

चंद्रयान-3 की कामयाबी के तुरंत बाद पीएम मोदी ने इसरो चीफ को किया फोन
चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग के तुरंत बाद पीएम मोदी ने इसरो प्रमुख को फोन किया. उन्होंने बुधवार को चंद्रयान-3 मिशन की सफलता पर इसरो के अध्यक्ष एस सोमनाथ को बधाई दी. उन्होंने आगे कहा कि वह जल्द ही बेंगलुरु जाकर पूरी टीम का व्यक्तिगत तौर पर स्वागत करेंगे.

भारत का तीसरा मिशन चंद्रयान-3 ने भेजा नया वीडियो, ISRO भी इस वीडियो को देखकर हैरान हो गया है

0

भारत का तीसरा चंद्र मिशन, चंद्रयान-3, धीरे-धीरे चंद्रमा के करीब पहुंच रहा है। गुरुवार को, चंद्रयान-3 ने प्रोपल्शन मॉड्यूल को चंद्रमा से अलग करने के बाद चंद्रमा की पहली तस्वीर भेजी, जो काफी खूबसूरत है। यह छवि 17/18 अगस्त को चंद्रयान-3 के लैंडर इमेजर से जुड़े कैमरा-1 से ली गई थी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने इसका वीडियो बनाकर ट्विटर पर साझा किया।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (ISRO) के मुताबिक, लैंडर 23 अगस्त को शाम 5.47 बजे चंद्रमा की सतह पर उतरेगा। लैंडर विक्रम और रोवर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेंगे। यदि मून-3 की सफलतापूर्वक सॉफ्ट-लैंडिंग होती है, तो अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत ऐसा करने वाला चौथा देश बन जाएगा।

साल 2019 में चंद्रयान-3 मिशन का लैंडर चंद्रमा की सतह पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इसके तुरंत बाद, भारत ने तीसरे चंद्र मिशन की तैयारी शुरू कर दी। इस मिशन को सफल बनाने के लिए इसरो के वैज्ञानिक पिछले कई महीनों से दिन-रात मेहनत कर रहे हैं। इस बार चंद्रयान-3 की लैंडिंग में कोई दिक्कत न हो इसका खास ध्यान रखा गया है। चंद्रयान-3 को 14 जुलाई को लॉन्च किया गया था। चंद्रयान-2 की तरह, चंद्रयान-3 के लैंडर का नाम भी विक्रम रखा गया है।

इस उपलब्धि पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुशी जताई और इसे स्पेस की दुनिया में नया अध्याय बताया। पीएम मोदी ने कहा, ”चंद्रयान-3 ने भारत की अंतरिक्ष यात्रा में एक नया अध्याय लिखा। यह हर भारतीय के सपनों और महत्वाकांक्षाओं को ऊपर उठाते हुए ऊंची उड़ान भरता है। यह महत्वपूर्ण उपलब्धि हमारे वैज्ञानिकों के अथक समर्पण का प्रमाण है. मैं उनकी भावना और प्रतिभा को सलाम करता हूँ!

ग़दर 2 ने तोड़े रिकार्ड्स : छोटे शहरों के थिएटर भी फुल, पहली बार मिडनाइट और सुबह के शो में दिखाई गई फिल्म

“2001 में आई ‘गदर – एक प्रेम कथा’ न केवल अपनी मोहक कहानी के कारण एक जबरदस्त हिट मूवी बनी, बल्कि इसने ऐसे बॉक्स ऑफिस रिकॉर्ड्स को भी तोड़ दिया जो असंभव लगते थे। सनी देओल और अमीषा पटेल के बीच की केमिस्ट्री को दर्शकों ने भरपूर प्यार दिया और उस दौर में सफलता का एक नया आयाम स्थापित किया।

ख़ास बात यह है कि इसकी सिक़्वल, “गदर 2,” ने रिलीज के पहले तीन दिनों के अंदर ही रिकॉर्ड स्थापित करना शुरू कर दिया है। फिल्म की अत्यधिक मांग के कारन कई थिएटरों में ग़दर २ देर रात और सुबह के शोज में भी दिखाई जा रही है ।

ऐसा पहली बार नहीं है बल्कि मुंबई के लिए ये एक सामान्य सी परंपरा हो गई है इसके पहले “सूर्यवंशी”, “गंगुबाई काठियावाड़ी”, “दृश्यम 2”, और हाल ही में “ऑपनहाइमर” जैसी फिल्में को भी देर रात थिएटरों में प्रदर्शित की जा चुकी हैं। ग़दर २ की सफलता का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है की इस फिल्म ने छोटे शहरों में भी थिएटरों को देर रात तक खुलने पर मजबूर कर दिया। जहाँ एक तरफ रात में १ बजे का शो चलाया जा रहा है वहीँ सुबह ५:३० बजे से ही यह फिल्म थिएटरों में दिखाई जा रही है। इतिहास में ऐसा पहली बार है जब किसी हिंदी फिल्म को रात और सुबह के समय छोटे शहरों में भी प्रदर्शित किया जा रहा है।

- Advertisement -
Google search engine