अगरआप को भी है कोल्ड्रिंक पीने की लत तो हो जाये सतर्क

0
18

गर्मी के मौसम में, कोल्ड्रिंक पीने की इच्छा बढ़ जाती है। सभी आयु वर्गों के लोग गर्मी से राहत पाने के लिए ठंडी कोल्ड्रिंक पीने की इच्छा रखते हैं। कोल्ड्रिंक पीना व्यक्ति को बड़े हद तक अच्छा लगता है, और कई लोग इसका अत्यधिक सेवन करते हैं। सभी को लगता है कि कोल्ड्रिंक पीना शरीर के लिए काफी फायदेमंद है, लेकिन यह सच नहीं है। अत्यधिक कोल्ड्रिंक का सेवन करने से आपके शरीर में कई सारी समस्याएँ हो सकती हैं। इस प्रकार, हर किसी के लिए महत्वपूर्ण है ये बात जानना कि कोल्ड्रिंक हमारे शरीर को कैसे प्रमुख हानि पहुंच सकती है।
हेल्थलाइन की रिपोर्ट के अनुसार, कोल्ड्रिंक में पोषक तत्व नहीं होते हैं, जबकि चीनी और कैलोरी की मात्रा बहुत अधिक होती है। अत्यधिक मात्रा में चीनी का सेवन स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालता है। विशेष रूप से चीनी वाली शुगर (सुगरी ड्रिंक्स) स्वास्थ्य पर सबसे अधिक दुष्प्रभाव डालता है हैं। इसलिए इसका सेवन न्यूनतम मात्रा में करना चाहिए। अत्यधिक कैलोरी शारीरिक वजन को बढ़ा सकती है, क्योंकि इसको पीने से आपको भरपूर लगाव महसूस नहीं होता है। इस स्थिति में, आप अधिकतम कैलोरी का सेवन करेंगे।
कोल्ड्रिंक के सेवन से होने वाली 5 गंभीर बीमारियां
1- कोल्ड्रिंक का सेवन नॉन-एल्कोहॉलिक फैटी लिवर के जोखिम को बढ़ा सकता है। जब अत्यधिक मात्रा में कोल्ड्रिंक यकृत तक पहुँचती है, तो यकृत ओवरलोड हो जाता है और फ्रूक्टोज को वसा में बदल देता है। इसके कारण, वसा यकृत में जमा हो जाता है।
2-अत्यधिक कोल्ड्रिंक पीने से पेट में वसा के जमा होने का कारण हो सकती है। कोल्ड्रिंक में बहुत सारा फ्रूक्टोज होता है,जो पेट के चारों ओर वसा को जमता है। इसे आंतरिक वसा या पेट की चर्बी भी कहा जाता है। पेट के वसा को बढ़ाने से मधुमेह और हृदय रोग के जोखिम बढ़ जाता है
3-अत्यधिक कोल्ड्रिंक का सेवन इंसुलिन प्रतिरोध का कारण बन सकता है, जिससे ब्लड शुगर बढ़ जाता है। इंसुलिन एक हार्मोन होता है जो आपके रक्तचालन में ग्लूकोज को आपकी कोशिकाओं में ले जाता है। जब आप सर्करा युक्त कोल्ड्रिंक पीते हैं, तो आपकी कोशिकाएँ इंसुलिन के प्रभाव के प्रति कम संवेदनशील हो सकती हैं।
4- कोल्ड्रिंक में पोषण तत्व कम होते हैं और बहुत अधिक कैलोरी और चीनी होती है। इससे शरीर के सभी अंगों को बड़ा नुकसान होता है। कोल्ड्रिंक का सेवन शरीर में लेप्टिन प्रतिरोध का कारण बन सकता है, जिससे मोटापा बढ़ सकता है। मोटापा कई बीमारियों का कारण बन सकता है।
5-कई अध्ययनों से यह पता चला है कि शुगर और प्रोसेस्ड जंक फूड सामान्यत: रूप से आपके मस्तिष्क को कठोर दवाओं की तरह प्रभावित करते हैं। इनका सेवन करने से आपको इन चीजों की लत लग सकती है। अगर आप कोल्ड्रिंक का अधिक सेवन करते है, तो सेहत को काफी नुकसान हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here