शेयर बाजार से भी तेजी से बढी है, इन नेताओं की संपत्ति

Image Credit: Twitter and India Today

नई दिल्ली, सुप्रीम कोर्ट में सांसदो की दो चुनाव के बीच में बढी हुई संम्पत्ति को लेकर एक याचिका डाली गई थी, जिस पर अपनी बात रहते हुए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड यानि सीबीडीटी ने सुप्रीम कोर्ट में एक सूची सौपी है. इस सूची में कुछ आयकर विभाग की जांच के दौरान पाया गया की 26 सांसदो में से 7 की आय में आश्चर्य जनक रूप से वृद्धि हुई है और ये वृद्धि करीब 500 गुना तेजी है हुई है.

आयकर विभाग की छापेमारी से परेशान होने के बाद हरियाणा के पलवल से कांग्रेस के सांसद कर्णसिंह ने एक सूची जारी ही है और उनके दावे के मुताबिक ये वही सूची है जो सीबीडीटी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामें के तौर पर दी है, इस सूची में कई बीजेपी,कांग्रेस के नेता शामिल है.

इस सूची में बीजेपी से नेता और सरकार में सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्री डीबी सदानंद गौड, नदी विकास और संसदीय मामलों के राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल और बीजेपी के बडबोले सांसद शत्रुघन सिन्हा शामिल है. इसके आलावा कांग्रेस की आध्यक्ष सोनिया गांधी, सपा से मुखिया मुलायम सिंह यादव का नाम भी उस सूची में शामिल है जिनकी संपत्ति में 500 गुना का इजाफा हुआ है.

आज की जानकारी के लिए बता दें की सीबीडीटी से सुप्रीम कोर्ट में 7 सांसदो और 98 विधायकों की एक लिस्ट सौपी थी ये वो सांसद और विधायक है जिनकी आय में आश्चर्य जनक रूप से वृद्धि हुई है.

क्या है ये पूरा मामला…

लोक प्रहरी नाम का लखनऊ में एक एनजीओ है जिसने दावा किया था कि लोकसभा के 26, राज्यसभा के 11 और 257 विधायकों के चुनावी एफिडेविड में उनकी जितनी संपत्ति का दावा किया गया है उनके पास अब इससे कही ज्यादा संपत्ति है. उनके इस दावें से मीडिया रिपोर्ट में आने के बाद हंगामा शुरू हुआ से आयकर विभाग ने जांच की बात कही, जिसके बाद जांच का काम शुरू हुआ है सीबीडीटी यानी केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में कहा की वो 9 लोकसभा, 11 राज्यसभा और 42 विधायको के खिलाफ जांच शुरू कर रहे है और जांच की जो भी प्रगति होगी उसे इलेक्शन कमीशन और माननीय सुप्रीम कोर्ट के साथ साझा किया जाएगा.

इसके बाद इस पूरे मामले पर सुप्रीम कोर्ट की तरफ से सख्ती दिखाते हुए पूछा गया की पिछले दो चुनावो से बीच जिन सांसदो का आय में 500 गुना से ज्यादा की वृद्धि दर्ज की गई है उनका ब्यौरा कोर्ट में सौपा जाए. इसके आलावा सुप्रीम कोर्ट में इस पूरे मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस जे चेलामेश्लर ने केंद्र सरकार से पूछा की इस नेताओ के खिलाफ क्या कार्यवाही की गई है और अगर आप नेताओ का नाम नही बताना चाहते तो एक बंद लिफाफे सें इसकी सूची कोर्ट में सौंप दे.

क्या है कर्णसिंह का दावा…

पलवल से कांग्रेस विधायक कर्णसिंह का दावा है कि ये वही सूची है, जिसे सीबीडीटी ने सुप्रीम कोर्ट में सौंपा है और इसमें सोनिया गांधी को जानबूझ कर फंसाते हुए उनका नाम डाला गया है, कर्णसिंह हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुडा के रिश्तेदार है और उनकी सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. उन्होनें मीडिया से बात करते हुए कहा की उन्हे बार-बार छापामार कर परेशान किया जा रहा है और वो जल्द ही उन राज्यसभा सांसदो और लोकसभा सांसदो की डिटेल लिस्ट जारी करेंगे जिनकी संपत्ति में आश्चर्य जनक उछाल आया है.

 

 

LEAVE A REPLY