सत्ता के नशे में योगी आदित्यनाथ कहा, क्या सरकार बच्चे पालेगी

Image Credit:Twitter

अमित कुमार सिंह, संवाददाता न्यूज हिंदी

नई दिल्ली, गोरखपुर में बाबा राघव मेडिकल काॅलेज यूपी के माते पर किसी बदनूमा दाग से कम नही है, मासूम बच्चों की लगातार होती मौत के चलते यूपी के मुख्यमंत्री सवालों के कटघरे में आकर खडे हो गए है. इस बीच योगी का नये बयान पर मीडिया में हंगामा होने लगा है, जो मीडिया कल तक यूपी के गुणगान करता नही थक रहा है वही मीडिया आज योगी से बार-बार सवाल पूछ रहा है गोरखपुर में मासूमों की मौत की जिम्मेदारी से सरकार क्यों बचना चाह रही हैं.

योगी आदित्यनाथ में अभिभावकों से जुडे एक कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि, मीडिया कहता है कि फलानी जगह कूडा पडा है, हम लोग मानते है सरकार कि जिम्मेदारी है, लगता है सारी जिम्मेदारीयों से मुक्त हो गए, इसके अलावा उन्होने आगे कहा की मुझे लगता है कि कहीं ऐसा ना हो की, लोग अपने बच्चे जैसे की 2 साल के हो सरकार के बरोसे छोड दे कि सरकार उनका पालन पोषण करेगी.

योगी सरकार के ये बोल साफ इस ओर इशारा कर रहे है की वो यूपी की व्यस्था से पूरी तरह तस्त हो चुके है और अपना पल्ला झडना चाहते है.

गोरखपुर में बच्चों की मौत का आकंडा लगातार बढता जा रहा है, पिछले 72 घंटों में 61 और बच्चें मौत की गोद में सो चुके है.

ये बच्चे किसी राजनैतिक पार्टी का वोट बैंक नही थे, शायद इसलिए अभी तक सब आल इज वैल की तरह चल रहा है, योगी आदित्यनाथ पिछले 15 सालों से गोरखपुर से चुनकर सांसद आते रहे है और गोरखपुर, महाराजगंज इलाके में इंसेफेलाइटिस जैसी बिमारी कोई नही बात नही.

चुनाव के वक्त योगी कई चैनलों पर अपनी गोरखपुर की कामयाबी के झंडे गाढते हुए दिखाई दिए. क्या यही उनकी कामयाबी है. क्या वो ऐसी की गुजरात माॅडल पर काम करते हुए मोदी के सपनों का भारत बनाएगे, या मोदी के सपनो का भारत ऐसा ही होगा जो केवल वोट बैंक की भाषा समझेगा.

 

LEAVE A REPLY