बाबा बलात्कारी की सफलकता के 5 फंडे

Video Credit: YouTube and Cinecurry LifeStyle

बाबा बलात्कारी राम रहीम सालों से देश के मासूम और धर्म के नाम पर अंधे हो चुके लोगों की आंखों में कैसे धूल झोंकता हुआ आया ये दुनिया अब देश रही है, बाबा में हर वो गलत काम किया वो जिसे दूसरों को करने से रोकता था. डेरा के नियमों के मुताबिक कोई भी महिला किसी पुरूष के करीब नही जाएगी और महिला को यदि किसी पुरूष से बात करनी है तो वो 5 से 8 फीट की दूरी से बात करेगी. जबकि बाबा अपनी उस गुफा में साध्वीयों की इज्जत लूटता रहा जिसका वीडियों सामने आने पर दुनिया के लोगों की गुफा के लेकर बचपन से देखी और सुनी तस्वीर बेईमानी हो गयी.

बाबा की इस 5 स्टार लग्जरी गुफा में हर खुश सुविधा को वो साधन मौजूद था जिसे बाबा में अपने भक्तों के लिए मोह-माया बताया था और उससे दूर रहने की सलाह दी. बाबा अपनी सैक्स पाॅवर बढाने के लिए हकीमों से रोज नया-नया नुस्का लेता और अपनी साध्वीयों पर उसका इस्तेमाल करता. उसने अपनी उस बेटी के साथ भी अवैध संबंध बनाए जिसे वो बेटी कहता था और जिसके बिना वो आज जेल में एक पल भी नही रह पा रहा है. वो इसकी प्रेमिका हनीप्रीत कौर है या मुंहबोली बेटी इसकी सच्चाई तो भगवान ही जानता है.

हमारे खोखले समाज का नेत्रृत्व इस तरह के बलात्कारी बाबा ही कर रहें हैं. बाबा की इस अपार सफलता और उसके द्वारा बनाए गए अरबो के साम्राज्य को तैयार करने कि क्या कला है इसका भी बारिकी से परीक्षण किया जाना जरूरी है. आईये बात करते है इस तरह के बाबा बनाने के लिए जरूरी कला के बारे में…

1- ड्रामा करने में माहिर…

इस तरह के जितने भी बाबा बाजार में मौजूद है चाहे वो आसाराम डाकू हो या बलात्कारी राम रहीम से लेकर ड्रामेबाज राधे मां सब के साथ ड्रामा करने में माहिर है और ये बाबा लोग खुद को हमेशा ईश्वर का अवतार ही क्यों बताते है. क्यो ईश्वर ने केवल भारत में ही अवतार लेने के ठेका ले लिया है. 

असल में आज हम बेहद आलसी हो गए हैं और हमे ईश्वर भी खुद के जैसा ही जाहिए जो ज्यादा मेहनत करने को ना कहें और आराम से होने वाली साधना या तपस्वा के बारें ही बताए जो माया और राम दोनों के साथ मिल जाए. पैसे का मोह भी ना छूटे और खुदा भी मिल जाए. हमारे इस आलस्य के फार्मूले में जन्म दिया है इस तरह के बाजारू बाबाओं को जो लोगों का आखों में धूल झोंकने की कला में माहिर होते हैं.

2. बेहद मजबूत कम्यूनिकेशन स्किल

इस तरह के बाबाओं का ये एक बेहद महत्वपूर्ण हथियार होता है. बाजार में इस कदर सफलता प्राप्त कोई भी बाबा ऐसा नही होगा जिसका कम्यूनिकेशन स्किल कमजोर वो या वो बोल की नही पाता हो. ये बाबा लोग एक से ज्यादा भाषाओं को भी जानते है जिससे लोगों को मूर्ख बनाना और भी आसान हो जाता है. आसाराम डाकू को ही देख ले वो कई भाषाओं के अच्छी तरह से बोल लेता है. जिससे उसकी लोगों के बीच प्रसंगिकता और भी बढ जाती है. इस तरह के बाबा लोगों को अपनी बातों में फंसाने और उन्हे अपने पक्ष में मनाने के लिए माहिर होते है.

3. बाबा के गेटअप…

इस तरह के बाबा कि एक और पहचान है ये बाबा भीड में अलग की नजर आते है, ज्यादातर ये राजा महाराजा या कोई साइंसफिक्स की तरह की ड्रेस पहनेंगे जिससे लोगों की नजरों में अपनी एक अलग और अवतारी छवि बनाना बेहद आसान हो जाता है.

 

2- बात बनाने और बरगलाने की क्षमता :

कथित संत रामपाल और आसाराम जैसे लोगों की वाकपटुता की वजह से भोले-भाले लोग आसानी से उनकी बातों में आ जाते हैं। उनके अंदर बात बनाने की वो कला होती है, जो लोगों को सम्मोहित कर लेती है। इसके बाद उनकी हर बात सही लगने लगती है। अपनी बातों में फंसाकर ये ढोंगी बाबा लोगों को बरगलाने लगते हैं। तरह-तरह के बहाने बनाकर उनसे पैसे ऐंठते हैं। उनकी बातों में फंसी जनता को इसका आभास बहुत देर से होता है।

 

3. अपराधियों और नेताओं से अच्छे संबंध

इस तरह के बाबा के गैंग में कुछ अपराधी तत्व हमेशा से सक्रिय रहते है जो बाबा लोगों के करोडों के साम्राज्य को चला सकें. और बाबा किसी कानूनी कार्यावाही में फंसता है तो उसके खिलाफ सबूतों को मिटा सके और गवाहों को खरीद सके या मरवा सके. राम रहीम के मामले में देखे की कैसे बाबा के गुंडे खुले में वो हथियार लेकर चलते है जो देश में केवल सेना या आतंकवादियों के पास होते हैं. बाबा नें अपने खिलाफ कई सबूतों को मिटा दिया और गवाहों को खरीद लिया, शहीद पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की गोली मार कर हत्या कर दी गई जिन्होने बाबा बलात्कारी के खिलाफ सबसे पहले मोर्चा खोला था. दूसरा आसाराम डाकू के केस को देखे एक के बाद एक आसाराम के खिलाफ गवाही देने वालों की हत्या की जाती रही है . ऐसे में वो केस जीत भी जाता है तो वो क्या भी से धर्म का नेत्रृत्व करने लायक है, इसकी खुद को कोर्ट के सामने सरेंडर करने के वक्त किया गया नाटक की दुनिया को उसकी सच्चाई बता देता है.

इस तरह के बाबा की एक और खासियत होती है, जिसके चलते हमारे देश के नेता इसके दरवाजे में नाक रगडते हुए नजर आते है, वो है बाबा लोगों के पास मौजूद मजबूत वोट बैंक. ये वोट बैंक की ही ताकत है कि राजनेताओं का तरह से सच्चाई जानते हुए भी इस तरह के बाबाओं कों पाला जाता है और ताकतवर बनाया जाता है.

4. मीडिया और मार्केटिंग

इस बाबा लोगों को हमारे घरों तक पहुंचाता है टीवी, अखबार और सोशल मीडिया जो बाबा के प्रवचनों को दिन रात बेचता है. बाबा झूठे लोगों की एक फौज तैयार करते है जो बाबा के चमत्कारों और उनकी कृपा को लोगों तक पहुंचाए जिससे बाकि लोगो को अपने दल में शामिल किया जा सकें.

5. विरोध होने पर धर्म की आड

ये बाबा जिस धर्म के साथ भी जुडा होतें हैं  उस समाज में उनकी पोल खुलने पर उस धर्म के खिलाफ साजिश और इस पर खतरा बताकर विरोधियों का फौज तैयार कि जाती है. उदाहरण दिया जाता है कि उन्हे धर्म के रास्ते पर चलने के लिए राम, ईसा और बुद्ध की तरह कीमत चुकानी पड रही है.

 

LEAVE A REPLY