मासूम प्रद्युम्न ठाकुर हत्याकांड- कौन है जो पर्द के पीछे छिपा है

Image Credit: Twitter

गुरूग्राम – मासूम प्रद्युम्न का हत्या को लेकर इतना वक्त बीत चुका है पर सच्चाई आज भी लोगों के साथ लुका छीपी का खेल-खेल कही है, बच्चे की हत्या के बात से ही उसके पिता ने इस बात पर शक जताया था कि तस्वीर जिस तरह से साफ दिख रही है असल में वैसा नही है.

हत्या का आरोपी अशोक इस पूरी घटना के कुछ ही घंटों बार मीडिया की सुर्खियों में आ गया था और उसने अपना गुनाह कबूल लिया उसने कहा की वो काफी डरा हुआ था जिससे बार उसने आपनी मानसिक हालत ना ठीक होने का बात करते हुए इस पूरी घटना का अंजाम दिया था.

इसके बार से ही बच्चे के पिता वरूणचंद ठाकुर नें आरोप लगाया था कि ये घटना केवल इतनी नही है जितनी दिखाई दे रही है, इसके पीछे कुछ और लोग भी है जो इस घटना की वजह से किसी को बजाने की कोशिश कर रहें हैं.

दूसरी तरफ इस घटना की जांच के लिए गठित कि गई एसआईटी टीम की सदस्य और एसपी तान्या सिंह ने बताया की जांच के दौरान सभी पहलूओ की जांच की गई है और किसी भी तरह की जानकारी ना रह जाए इसलिए स्कूल के स्टाफ से भी कई बार पूछताछ की गई है.

एसआईटी के मुताबिक इस घटना में अशोक के अलावा और कोई भी शामिल नही था और पुलिस अपनी चार्जशीट फाइल करने की तैयारी कर रही है.

क्या है पूरा मामला…

गुडगांव के सोहना रोड पर भोसडी गांव के पास रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 2 कक्षा में प्रदुयुम्न ठाकुर नाम का एक बच्चा पढता था, जिसके पिता श्यामकुंज निवासी वरूणचंद्र ठाकुर उसे सुबह 7 बजकर 50 मिनट पर स्कूल के गेट पर छोड कर आते है जिसके बाद स्कूल प्रबंधन की तरफ से 8 बजे एक फोन आता है कि आपका बच्चा स्कूल के बाथरूम के पास लहूलूहान हालात में गिरा मिला है आप पास के निजी अस्पताल पहुंचे जहां बच्चे हो इलाज के लिए ले जाया जा रहा है.

इसके बाद बच्चे के पिता आनफानन में अस्पताल पहुंचे है जहां उनके बच्चे को मृत घोषित कर दिया जाता है, स्कूल प्रशासन के तरफ से बताया गया की बच्चा बाथरूम के बाहर गिरा हुआ मिला उसका पूरा शरीर खून से सना हुआ था और उसकी गर्दन के पास के धारदार हथियार से हमला किया गया था.

पुलिस ने जांच का शुरूआती सिलसिला शुरू किया तो स्कूल की बस का कंडेक्टर आशोक का नाम सामने आया जिसके बाद पुलिस ने उसके साथ पूछताछ की जो इसने अपना गुनाह कबूल करते हुए कहा की वो बाथरूम में बच्चे का साथ अश्लील हरकत कर रहा था जिसका बच्चे नें विरोध किया और जिसे बाद वो वहां से भागने लगा और बच्चे को भगता हुए देख आशोक इस बात से डर गया की कही वो इस घटना के बारे में किसी को ना बता दें.उसने चाकू से बच्चे के गले पर वार किया जिससे बच्चे की मौत हो गई.

क्या है पेंच…

 

अब इस पूरी घटना में एक नया पेंच ये आ गया  है कि आरोपी अशोक के वकील का कहना है कि उतना क्लाइंट पूरी तरह से निर्दोष और पुलिस से उसका बयान दर्ज करने से पहले उसे पूरी तरह से टर्चर किया गया था. और उसका कबूल नामे के पीछे रायन इंटरनेशनल के प्रबंधन की तरफ से दबाव बनाया गया था. जिसके बाद आशोक नें अपना बयान दर्ज कराया. इसके साथ-साथ बच्चे के पिता वरूणचंद्र ठाकुर इस बात पर पहले ही संदेश जता चुके है और वो लगातार कहते आ रहें है कि घटना के पीछे के असल जिम्मेदार को छिपाया जा रहा है. उनकी तरफ से लगातार सीबीआई जांच की मांग की जा रही है.

सोशल मीडिया पर मिल रहा है देशभर से समर्थन…

प्रद्युम्न के पिता वरूण चंद्र ठाकुर को देशभर से समर्थन मिलने का सिलसिला लगातार जारी है और लोग इस घटना को लेकर पूरी तरह से उनके साथ आकर खडे हो गए है. जगह-जगह पर कैंडिल मार्च निकाला जा रहा और लोग इस घटना की जम कर निंदा कर रहे हैं.

मीडिया को बनाया निशाना…

प्रद्युम्न हत्याकांड की कवरेज को गई मीडिया को और प्रदर्शन कर रहे लोगों को वहां से भगाने के लिए लाठीचार्ज किया गया था. जिसके बात वहां के स्थानीय मीडियाकर्मियों का इस लाठी चार्ज के दौरान चोटे भी आई थी.

LEAVE A REPLY