फलहारी बाबा… निकला बलात्कारी बाबा…

Image Credit: Twitter

बलात्कारी बाबा राम रहीम की कहानी अभी पूरी तरह से खत्म नही हुई थी कि एक और बाबा बलात्कार के आरोप में इन दिनों मीडिया की सुर्खियों में छाया हुआ है. इस बाबा को फलाहारी बाबा कहते है इसका असली नाम है. रामानुजाचार्य स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी और अलवर के एक आश्रम में रहता है.

और बाबा के बीजेपी के अलावा बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के साथ मजबूत रिश्ते है, इसी साल 21 जुलाई को बीजेपी के राष्ट्रीय प्रमुख अमित शाह चुनावी बैठक के एक सिलसिले में राजस्थान आए और इसी बैठक के दौरान राजस्थान के चुनावो की रूपरेखा तैयार की गई थी. इस बैठक के दौरान मंच पर फलहारी बाबा भी मौजूद था.

बाबा वैसे तो संस्कृत का विद्वान है और अपने चेलों को दिन रात वेद का पाठ पढाया करता है. पर बाबा असली जिंदगी में सेक्स का भूखा है, उसके गेरूआ कपडों के पीछे एक ऐसा इंसान छिपा है जिसकी शरीरिक जरूरते पूरी नही हो सकी है पर वो लोगों को संसार मोहमाया है का पाढ पढाता है.

ये है पूरा मामला…

छत्तीसगढ के विलासपुर की रहने वाली एक युवती का परिवार बाबा का भक्त है और वो इस बाबा को ही भगवान का अवतार मानता है, उनके परिवार की लडकी की जब दिल्ली में स्थित सुप्रीम कोर्ट में एक जाने माने वकील के यहां इनटर्नशीप लग लगी तो परिवार ने इसे बाबा का ही आशीर्वाद माना और अपनी बेटी से कहा की वो बाबा के बाद जाकर भगवान की कुछ दान देकर आए. परिवार के कहने पर युवती बाबा के दरबार में चली गई और उसने बाबा से मिलने की बात कही बाबा ने कही की अभी वो इंतजार करे और कुछ देख बाद वो आश्रम में उससे मुलाकात करेंगे. इसके बाद बाबा ने अपने चेले के माध्यम से युवती को अपने आश्रम में बुलवाया और आज रात चंद्र ग्रहण है तुम यही रोको सुबह चली जाना, आश्रम में रहने की पूरी व्यवस्था है ऐसा कहा. युवती को बाबा की इस चाल का जरा भी अंदाजा नही था की बाबा की नियत साफ नही है.

वो बाबा के कमरे में चली गई और बाबा ने कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर लिया इसके बाबा कुछ देर उसके साथ इधर ऊधर की बाते करता रहा और उसका हाथ अपने हाथों में लेकर बोला की वो उसे अपनी ज्ञान देना चाहता है. लडकी अभी भी कुछ नही समझ पाई की बाबा आखिर क्या चाहता है, इसके बाद उसने कहा की बाबा मै कुछ नही समझी आप कैसा ज्ञान देने चाहते है, बाबा ने कहा को वो उसकी जीभ पर अपनी जीभ के ऊं लिखना चाहता है उसके बाद उसे ज्ञान मिलेगा.

बाबा की ये बात सुनकर लडकी घबरा गई और जोर-जोर से शोर मचाने लगी और पर दरवाजा बाहर से बंद था और लडकी अंदर अकेली थी, उसके बाद अकेली किसी तरह से लडी अपनी जान वहां से बजा कर भागी. लडकी काफी डरी और सहमी हुई अवस्था में आश्रम से भाग कर अपने घर गई और उसने डर के मारे अपने घरवालों को कुछ नही बताया और चुपचाप रहने लगी.

एक दिन उसने पूरी घटना को घरवालों के सामने कहा जिसके बाद घऱवालो नें बाबा के खिलाफ अलवर के थाने में मुकद्मा दर्ज करवाया और उसके बाद पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए बाबा अस्पताल मे आईसीयू में भर्ती हो गया है और पुलिस को उसके आईसीयू से निकलने का इंतजार है.

 

LEAVE A REPLY